Current time: 06-04-2018, 02:24 AM Hello There, Guest! (LoginRegister)


Post Thread Post Reply
Thread Rating:
  • 0 Votes - 0 Average
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
निम्फ़ोमेनियाक
09-04-2012, 12:18 AM
Post: #1
निम्फ़ोमेनियाक
ये कहानी है एक ऐसी औरत की जिसने अपने जीवन के ३२ वर्ष चरित्रवान और पतिव्रता स्त्री के रुप में गुजारे लेकिन बाद में उसके जीवन में ऐसी घटनाएं हुई और ऐसे हालात पैदा हुए की अपने ही चरित्र का उसने अपने ही हाथों चीरहरण कर लिया और पतिव्रता से वो पतिता बन गई। वो एक ऐसी स्त्री बन गई जिसे हर पुरुष अपने जिस्म की प्यास बुझाने का माध्यम लगने लगा। वो एक ऐसी कमातुर स्त्री बन गई जिसे रोक पाना किसी के लिये भी संभव नहीं रहा। और स्त्री जब काम वासना के इस स्तर पर पहुंच जाती है, जहां उसका खुद पर ही नियंत्रण समाप्त हो जाय तो ऐसी हीस्त्री को कहा जाता है "निम्फ़ोमेनियाक" । निम्फ़ोनियाक एक ऐसी मानसिक अवस्था होती है, एक ऐसी बिमारी होती है जिसमें स्त्री की कामवासना कभी भी शांत नहीं होती और हर थोडी देर के अन्तराल में उसे अपनी नंगी चूत में पुरुष के लंड की जरुरत मह्सूस होती है।

निम्फ़ो यानी शीला एक ऐसी स्त्री थी जिसकी शादी १८ वर्ष की उम्र में ही हो गई थी। १८ वर्ष की उम्र में ही उस पर ऐसी जवानी चढी थी कि वो २५ की लगती थी । उसकी छातियों ने ऐसा उभार लिया था की कोई शादी शुदा औरत भी उससे जलन करे। मोटी और चिकनी जांघे, बड़ी बड़ी गांड, चिकना नवल प्रदेश और उजली दमकती उसकी काया राह चलतों का लंड खड़ा कर देती थी। उसकी ऐसी जवानी को देख कर उसके मां बाप भी चिंतित होने लगे और अपनी बेटी की बुर को जमाने की बुरी नजर से बचाने के लिये उस पर कई पाबंदियां लगा दी। और उन्होंने उसके लिये कोई अच्छा सा लड़का देख उसकी शादी करने का फ़ैसला कर लिया।

संजोग से उन्हें जल्दी ही एक अच्छा सा रिश्ता मिल भी गया। एक शादी की पार्टी में शहर के नामी ट्रांसपोर्टर के लड़के ने उसे देखा और उसका दिल उस पर आ गया । अब लड़के ने अपने घर में जिद पकड़ ली कि यदि शादि करुंगा तो इसी लड़की से नहीं तो जीवन भर कुंआरा ही रहूंगा। अपने बेटे की जिद के आगे मजबूर उसके माता पिता ना चाहते हुए भी उसका रिश्ता ले कर शीला के पिता के बेहद करीबी मित्र हरदयाल सिंह के साथ उसके घर पहुंचे । शीला के पिता तो उसके लिये कोई योग्य लड़का ढूंढ ही रहे थे लेकिन उन्हें कतई इस बात का गुमान नहीं था कि इतने करोड़ पति खानदान से उनकी लड़की के लिये रिश्ता आयेगा। हालांकि दोनो की जात अलग थी लेकिन उधर लड़के की जिद और इधर शीला के माता पिता की चिंता और फ़िर हरदयाल सिंह जैसे व्यक्ति की मध्य्स्थता जो दोनों ही परिवारों के मित्र थे और उनमें उनका रुतबा भी था, सो बात बन गई और दोनों ही पक्ष शादि के लिये तैयार हो गये और नियत तिथी पर शादी धूमधाम से संपन्न हो गई।

बलविंदर उर्फ़ बंटी शीला से शादि कर के काफ़ी रोमांचित और उत्तेजित महसूस कर रहा था। वो जल्द से जल्द शीला के पास जाना चाहता था लेकिन शादि के बाद की रस्में उसे शीला के पास जाने से रोक रही थी।उसकी इस बेचैनी का औरतें खूब मजाक उड़ा रही थी और उसे और भी चिढा रही थी । लेकिन बेचारा बंटी सिवाय कुढने के के कुछ कर भी नहीं सकता था।

Find all posts by this user
Quote this message in a reply
09-04-2012, 12:18 AM
Post: #2
RE: निम्फ़ोमेनियाक
खैर, जैसे तैसे शादी की तमाम रस्में भी समाप्त हो गई और तमाम रिश्तेदार और मेहमान भी विदा होने लगे और अब बस एक ही रस्म बची थी जिसे सिर्फ़ और सिर्फ़ बलविंदर को ही पूरा कराना था।वो तो बड़ा ही उतावला हो रहा था शीला के पास जाने के लिये लेकिन परिवार के लोगों के बीच संयम बरतने में उसे अपनी भलाई नजर आ रही थी, सो वो रात होने तक शांत ही बना रहा।

इशर दिन को ही बलविंदर के पिता ने उसके दोस्तों को बुला कर उसके कमरे की चाबी सौंप दी और कहा कि तुम सब नये जमाने के लड़के हो और हमें तुम्हारे रित रिवाज नहीं पता इस लिये तुम लोग ही उसके कमरे को सजाओ और उन दोनों के स्वागत की तैयारी करो।शेष बातें समझने की होती है बोलने की नहीं सो उसके पिता ने अपना कर्तव्य पूरा किया और अब वहां से खिसकने में ही अपनी भलाई समझी और वहां से चले गये।

बलविंदर के दोस्तों ने भी खूब जिम्मेंदारी निभाई और बड़ी ही खूबसूरती से उसका कमरा सजाया और जरुरत का सारा समान उसके पलंग के आसपास ही करिने से रख दिया। कमरे को सजाने में काफ़ी वक्त लगा इस वक्त रात के लगभग ९:३० हो चुके थे और उन सब का भी थक के बुरा हो चुका था। उन्हें भूख भी बेहद लगी थी और वो सभी इस बात का इंतजार कर रहे थे की कब अंदर से बुलावा आये और वे जा कर खाना खाये। सारे के सारे दोस्त उसके कमरे में ही नीचे फ़र्श पर बैठ गये और बतियाने लगे।

रवि :- यार दुल्हे के दोस्त होने का फ़ायदा तो बहुत है, मान सम्मान तो बहुत मिलता है लेकिन आखिर में पूरी कसर निकल जाती है।

अजय: हां यार अब देखो ना दोपहर के १ बजे से बंटी का कमरा सजा रहे हैं रात के ९:३० हो चुके है। साला ऐश करेगा रात भर बंटी और मेहनत करें हम लोग। ऐसा बोल के वो हंस देता है।

सुनिल: अबे तो क्या तू करेगा ऐश? तेरी शादी होगी तो तू कर देना मेहरबानी हम पर।

अजय: अबे साले.....(उसकी बात बीच में ही अशरफ़ काट देता है)

अशरफ़: यार सच कहूं पलंग सजाते समय मेंरा तो लण्ड़ खड़ा हो गया था। कुछ भी बोलो यारों बंटी भाभी बड़ी ही गदराई ले कर आया है।

प्रद्युम: हां यार भाभी बड़ी ही गदराई है। साला मेरी तो गांड़ ही जल गई । उधर पलंग की तरफ़ देखो थोड़ी देर बाद वो यहां नंगी सोई होगी। (सब उसकी बात सुन कर जोर से हंस देते है।)

रवि: तो अब क्या करें हमारी दोस्ती की सीमा तो यहीं तक है।

अजय: (हंसते हुए कहता है) क्यों तुझे तक्लिफ़ हो रही है अपनी सीमा जान कर।

रवि: अबे तक्लिफ़ मुझे नहीं मेरे लौडे को हो रही है। (सब ठहाका लगा कर हंसने लगते है।)

अशरफ़: यारों सच्ची बात कहूं हालत सबकी एक जैसी है । भाभी जान ने सबको क्लीन बोल्ड़ कर दिया है।(सभी एक बार फ़िर से मुस्कुरा देते हैं।)

सुनिल : अबे सालों यहां अंदर झांकने का कोई बंदोबस्त किया है की नहीं। (सब उसकी बात सुन कर हंसते हुए लोट्पोट हो जाते हैं)

प्रद्दुम: कैसे झांकेगा बे? बंटी का कमरा ऐसी जगह है कि ये सब संभव ही नहीं है।

सुनिल : ओह्ह्ह्ह... बेड़ लक यारों।

रवि : हां और बंटी का बैड़ लक (सब फ़िर से हंसने लगते है।)

सुनिल : आज तो बंटी का "बैड़ लक" बहुत ही अच्छा है।

अभी वो ऐसी बातें कर ही रहे थे कि कमरे के बाहर से बंटी के पापा की अवाज आती है। वो उन्हें ही पुकार रहे थे । उन्होंने बाहर से ही कहा बेटा हो गया क्या तुम लोगों का काम?

रवितनिक जोर से कहता है)जी पापा जीऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽ हो गया । आप आइये न अंदर।
पापा :- अरे नहीं बेटा तुम बच्चों के बिच हमारा क्या काम ? तुम लोग सब हाल में पहुंचो खाने का इंतजाम हो गया है।(ऐसा बोल के उसके पापा चले जाते है।)

सुनिल: गये क्या?
रवि : हां चले गये । चलो अब हम भी चलते हैं मेरा तो वैसे भी भूख के मारे बुरा हाल हो रहा है।( और सब उठ कर दरवाजे की तरफ़ जाने लगते है।)
सुनिल: (चलते हुए कहता है) यारों कुछ भी बोलो ये शादी होती बड़ी ही गजब की चीज है।
प्रद्दुम : क्यो?
सुनिल: अब देखो ना मां बाप खुद ही चोदने की व्यस्था करते है। (उसकी बात पर सभी फ़िर ठहाका लगाते हैं।)
रवि : चिंता मत कर तेरे मां बाप भी तेरे लिये ऐसी व्यस्था करेंगे।
सुनिल: शीला जैसी!!! (उसकी बात से सभी फ़िर से हंसने लगते है।)

ऐसे ही बातें करते हुए वे सब हाल में पहुंच जाते है और वहां जाकर सब ऐसी चुप्पी साध लेते है जैसे दुनिया में उनके जैसा शरिफ़ कोई होगा ही नहीं। वैसे भी दुनिया में तमाम किस्म के पाप शराफ़त का मुखौटा पहन कर ही होते हैं।
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
Post Thread Post Reply




Online porn video at mobile phone


sameera reddy assbridgette wilson toplessari graynor nudeeve myles toplesschoti bahan na bara bahi sa chodvajoanna garcia nudelara datta pussyरांडी रांड रांडी रंडवे की गंदी चूदाई की कहानीmorning me gym me chudvayanude bhumika chawlamelissa messenger nudetina wallman nudedivya dutta exbiimom ki chudai chapal dukan memaa ke gand ki kimat bete ne lagaior kitna chodoge dard ho raha h sex videoskhala ko seduce karke chodalisa maffia nakedmaa ne wild chudai ki nakali lund se desi sex story www.sexy stories of meri chudai driveror naukar be kiya garcelle beauvais nude picturesmai kolachu sex videosJadi mehant pujarin hd sexy porn videonude antara biswastessa james toplessashleigh brewer pornami dolenz nudeyum stories major sahabamrita rao fuckmaa kichodai bur chusai bete duwaraunshaven metartsonali kulkarni boobsदीदी के नारियल जैसे बूब सैक्स कहानीnude shabanachelsea chanel dudley porndayana nudetamanna vaginagunda ki randi sex storybua ki ladkijane leeves nudeshriya saran assjammu sex storiesनै नवेली बीवी की चूदाई क़र्ज़ के बदले कहानीcache:FBa4oN-GcmEJ:projects4you.ru/Thread-%E0%A4%AA%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%A8%E0%A5%80-%E0%A4%8F%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A4%9A%E0%A5%87%E0%A4%82%E0%A4%9C anna semenovich toplessmeghna naidu toplessMaa ko Randi Banaya - Part 5 › 3 din baad ghar se phone aya " papa bole beta maa kab aa rahi hai wapas to maine bol diya ki papa shayad wo next weak me aayengi... ...simone buchanan nudesarah matravers nudebrooke langton toplesswilla holland toplesscourtny hansen nudeshriya saran boobs pressedkarwat li chudaiohhhh ahhh chodar mojalouisa lytton nudemyammee nudejess wright nakedchoti behan ko goad me bitha ke chodamaa ki phudi mein lun daal k hath sy gadhy ka lun pakar k maa ki gand mein dalamayrín villanueva nudeghar ki nayi kirayedaar part 13ma aur bahan ki matakti gandmarisol nichols nudekhadoos bhabi ne bhut peeta aur chudwaya baadmenathalie kelley nippleraveena nip slipgoad me baitha kar chhoochi maslialia shawkat nudemummy ko picnic pr uncle se chudwate hue dekha storysmita jaykar hot picsबालों वाली देशी चुतgailkimnude3bahno ko mote land ki kahanipati se chup chup kar gaand marvana xxx videos amerikaanchudi bollywood actresswww.sexy stories of meri chudai driveror naukar be kiya Sir s boobs chuswaemangalwar ko ghar par Lage Chod Diyapussy visiblejamelia oopskrysten alyce ritter nudeerica cerra maximMaa ko Randi Banaya - Part 5 › 3 din baad ghar se phone aya " papa bole beta maa kab aa rahi hai wapas to maine bol diya ki papa shayad wo next weak me aayengi... ...maude adams nakedपाव रोटी जैसी फूली हुई बुर चोदीdo harami pariwar ki samuhik chudaisex story badi bahen meenatmkoc mude yumalison sweeney nudeChoda saal Se Lekar ke Bistar pe ladkiyon ka rape sex videojulie henderson nude