Current time: 06-19-2018, 08:29 PM Hello There, Guest! (LoginRegister)


Post Thread Post Reply
Thread Rating:
  • 0 Votes - 0 Average
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5
मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
03-30-2013, 07:30 AM
Post: #41
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
रमेश द्वारा उनकी तरबूज के मानिन्द छातियों को दोनो हाथों और मुँह से वहशियों की तरह प्यार करने से बेहद उत्तेजित हो मामीजी ने सिसकारियाँ भरते हुए अपने पेटीकोट का नारा पकड़ के खींचा और अपने घड़े जैसे भारी चूतड़ों से पेटीकोट खुद ही नीचे सरका कर जमीन पर पैरों की मदद से ठेल दिया । फ़िर रमेश का लोहे के राड जैसा लम्बा हलव्वी लण्ड अपने हाथों में थाम अपनी चुदास से बुरी तरह से पनिया रही रसीली चूत के मोटे मोटे दहकते होठों के बीच रखा। लण्ड के सुपाड़े पर चूत की गर्मी मह्सूस कर रमेश ने झुक कर देखा मामीजी की मोटी मोटी जांघों केबीचे में उभरी उनकी चूत, उसके आस पास का हिस्सा और काफ़ी मजबूत और कसाव लिए हुए था। उनकी गोरी चूत काफ़ी बड़ी पावरोटी की तरह फ़ूलकर उभरी हुयी चुदाई की मार से मजबूत हुई खाई खेली खड़ी खड़ी पुत्तियों वाला भोसड़ा थी । ये देख रमेश का लण्ड और ज्यादा फ़नफ़नाने लगा। उसने सोचा कि अगर इसे ही भोसड़ा कहते है तो चूत से भोसड़ा ज्यादा बढ़िया होता है। उसने अपने फ़नफ़नाते लण्ड का ऐसा ज़ोर का ठाप मारा की उसका आधा लण्ड मामीजी की चूत में घुस गया.

ऐसा लगा जैसे मामीजी को अपने कसे हुए तगड़े भोसड़े के कसाव पर बड़ा नाज था क्योंकि वो नशे में बड़बडाईंआह एक ही बार में आधा अन्दर, शाबाश लड़के!


ये सुन रमेश ने दूसरा ठाप भी मारा कि उसका पूरा लण्ड अंदर घुस गया.


मामीजी ने सिसकी ली


उईईईईईईइइम्म्म्मममा


अब रमेश एंजिन के पिस्टन की तरह मामीजी के मजबूत भोसड़े से टक्कर ले उसके चीथड़े उड़ाने लगा.


आह तेरी तो बहुत टाइट है भौजी आज इसे ढीली कर के ही छोड़ूँगा


मामीजी नशे में बड़बडाईं


हाँ! कर दे ढीली जालिम तू अब तक कहाँ था अरे क्या कर रहा है ढीली कर पर चूत के चीथड़े तो न उड़ा हाय थोड़ा धीरे से, चूत ही न रहेगी तो चोदेगा क्या ।


इतने में मैने विश्वनाथजी को ऊपर की तरफ जाते देखा.


Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:31 AM
Post: #42
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
मैं भी उनके पीछे ऊपर गयी और बाहर से देखा की भाभी जो कि अपना पेटिकोट उठा कर अपनी चूत में उंगली कर रही तो उसका हाथ पकड़ कर विश्वनाथजी ने कहा 'है मेरी जान हम काहे के लिए हैं, क्यों अपनी उंगली से काम चला रही, क्या हमारे लण्ड को मौका नही दोगी. अपनी चोरी पकड़े जाने पर भाभी की नज़रें झुक गयी थी और वो चुपचाप खड़ी रह गयी. विश्वनाथजी ने भाभी को अपने सीने से लगा कर उनके होंटो को चूसना शुरू कर दिया. भाभी भी अब उनके वश में हो चुकी थी.वो उनकी बड़े बड़े बेलों सी ठोस चूचियों को दबाते हुए बोले-

इतने दिनों से तेरे इन बेलों की उछलकूद ने मेरे इसको बहुत परेशान किया है ।


कहकर उन्होंने अपनी धोती हटा कर अपना लण्ड भाभी के हाथों में पकड़ा दिया भाभी उनके लण्ड को, जो की बाँस की तरह खड़ा हो चुका था, सहलाने लगी. अब भाभी भी खुल कर बोली-


मैं क्या करती आप मुझे घूरते तो रहते थे पर कभी कुछ बोले ही नही ।


उन्होने भाभी की चूचियाँ छोड़ी और उनके सारे कपड़े उतार दिए, और भाभी को वहीं पर लेटा दिया और उनके चूतड़ के नीचे तकिया लगा कर अपना लण्ड उनकी चूत के मुहाने पर रख कर एक जोरदार धक्का मारा. पर कुछ विश्वनाथजी का लण्ड बहुत बड़ा था और कुछ भाभी की चूत टाइट थी इसलिए उनका लण्ड अंदर जाने के बज़ाय वहीं अटक कर रह गया । इस पर विश्वनाथजी बोले लगता है कि आदमी के लण्ड चुदी ही नहीं तेरी चूत तभी तो तेरी इतनी टाइट है कि लगता है जैसे बिन चुदी बुर मे लण्ड डाल है "


भाभी मन ही मन मुस्कुराई पर कुछ नही बोली, क्या कहती कि चुदने को तो कल ही तुम्हारे उसे दोस्त रमेश के धाकड़ लण्ड से मैं जम के चुद चुकी हूँ पर तेरा कुछ ज्यादा ही बड़ा है और कुछ फ़ूल भी ज्यादा रहा है। विश्वनाथजी ने इधर उधर देखा और वहीं कोने में रखी घी की कटोरी देख कर खुश हो गये और बोले "लगता है साली बहू ने चुदने की पूरी तय्यारी कर रखी थी इसीलिए यहाँ पर घी की कटोरी भी रखी हुई है जिस से की चुदने मे कोई तकलीफ़ ना हो" इतना कह कर उन्होने तुरंत ही पास रखी घी की कटोरी से कुछ घी निकाला और अपने लण्ड पर घी लगा कर तुरंत फिर से लण्ड को चूत पर रख कर धक्का मारा. इस बार लण्ड तो अंदर घुस गया पर भाभी के मुँह से जोरो की चीख निकल पड़ी ' आआहह मरगई, जालिम तेरा लण्ड है या बाँस का खुट्टा' इसके बाद विश्वनाथजी फॉर्म में आ गये और और ताबड़तोड़ धक्के मारने लगे. भाभी ' उईईइमाँ लगती है थोड़ा धीमे करो ना करती ही रह गयी और वो धक्के पे धक्के मारे जा रहे थे. रूम में हचपच हचपच की ऐसी आवाज़ आ रही थी मानो 110 किमी की रफ़्तार से गाड़ी चल रही हो. कुछ देर के बाद भाभी को भी मज़ा आने लगा और वो कहने लगी ' हाय राजा मर गयी,, हाय राजा और ज़ोर से मारो मेरी चूत, हाय बड़ा मज़ा आ रहा है, आअहहााआ बस ऐसे ही करते रहो आहहााअ औक्ककककककचह और ज़ोर से पेलो मेरे विश्वनाथ राजा , फाड़ दो मेरी चूत को आअहहााआ, अरे क्या मेरी चूचियों से कोई दुश्मनी है , इन्हे उखाड़ लेने का इरादा है क्या, है ज़रा प्यार से दबाओ विश्वनाथ राजा मेरी चूचियों को.


मैने देखा की विश्वनाथजी मेरी भाभी की चून्चियो को बड़ी ही बेदर्दी से किसी हॉर्न की तरह दबाते हुए घचाघच पेले जा रहे थे. तब पीछे से महेश ने आकर मेरे बगलों में हाथ डाल कर मेरी बड़ी बड़ी चूचियाँ दबाते हुए बोला,

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:31 AM
Post: #43
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
अरी छिनाल तुम यहाँ इनकी चुदाई देख कर मज़े ले रही और में अपना लण्ड हाथ में लिए तुम्हे सारे घर में ढूँढता फ़िर रहा हूँ । इधर मेरी भी चूत भाभी और मामीजी की चुदाई देख कर पनिया रही थी. मुझे महेश बगल वाले कमरे में उठा ले गया और मेरे सारे कपड़े खींच कर मुझे एकदम नंगा कर दिया, और खुद भी नंगा हो गया. फिर मुझे बिस्तर पर डाल कर मेरे गदराये संगमरमरी जिस्म पर टूट पड़ा मेरी दोनों चूचियाँ थाम दबाने सहलाने मुँह मारने लगा, और कभी मेरे निपल को मुँह मे लेकर चूसने लगता । कभी मेरे बड़े बड़े संगमरमरी चूतड़ों पर हाथ फ़िराता कभी मुँह मारता । कभी मेरी मोटी मोटी केले के तने जैसी जाँघों को दबोचकर उनपर मुँह मारता। इन सबसे मेरी चूत की पूतिया [पुत्तियाँ] फड़फड़ने लगी. उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने खड़े लण्ड पर रखा और में उसके लण्ड को सहलाने लगी. मैं जैसे-जैसे उसके लण्ड को सहला रही थी वैसे वैसे वो एक आयरन रोड की तरह कड़क होता जा रहा था. मुझसे अपनी चुदास बर्दाश्त नही हो रही थी और मैं उसके लण्ड को पकड़ कर अपनी चूत से रगड़ रही थी कि किसी तरह से ये जालिम मुझे चोदे, और वो था कि मेरे जिस्म से खेलने में ही लगा था । अब मैं शरम चोद कर बोल पड़ी-

हाय राजा अब बर्दाश्त नही हो रहा है, जल्दी से कर ना।


मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी. अचानक उसने मेरी चुदास से बुरी तरह पानी फ़ेकती चूत अपने हाथ मे दबोच ली। बर्दाश्त की इन्तेहा हो गयी मैं खुद ही उसका हाथ अपनी चूत से हटा कर, उसके ऊपर चढ़ गयी उसके लण्ड का सुपाड़ा अपनी चूत के मुहाने से लगा कर मैंने अपनी बुरी तरह पानी फ़ेकती चूत में पूरा लण्ड आसानी से धीरे धीरे धंसा लिया फिर अपनी चूत के घस्से उसके लण्ड पर देने लगी. उसके दोनो हाथ मेरी बड़ी बड़ी चूचियों को कस कर दबा रहे थे और साथ में निपल भी छेड़ रहे थे.अब में उसके ऊपर थी और वो मेरे नीचे. वो नीचे उचक-उचक कर मेरी बुर में अपने लण्ड का धक्का दे रहा था और में ऊपर से दबा-दबा कर उसका लण्ड सटक रही थी. कभी कभी तो मेरी चूचियों को पकड़ कर इतनी ज़ोर से खींचता कि मेरा मुँह उसके मुँह तक पहुँच जाता और वो मेरे होंठों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगता. मैं जन्नत में नाच रही थी और मेरी चूत की चुदास बढ़ती ही जा रही थी. मैं दबा दबा कर चुद रही थी और बोल रही थी, -


बड़ा मज़ा आ रहा है मेरे चोदु राजा और जोरो से चोद मेरी चूत, भर दे अपना माल मेरी चूत में , आआआअह्ह्ह्ह्ह्हाआआ, बस इसी तरह से लगे रहो, हाआआईईईइ कितना अच्छा चोद रहे हो,






अचानक महेश ने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया । उसका लण्ड पक से चूत से निकल गया। मैंने चौक के पूछा-


क्या हुआ?






महेश –“तेरे गद्देदार चूतड़ो का तो मजा लिया ही नही रानी अब तेरे चूतड़ों की तरफ़ से चूत में पेलुँगा. और उसने मुझे नीचे गिरा कर चौपाया बना और मेरे ऊपर चढ़ कर मेरी चूतड़ों को पकड़ कर ऊँचा उठाने लगा उसकी मनसा जान मैंने चूतड़ उचका अपनी चूत से उसके लण्ड के सुपाड़े की मुलाकात करवा दी। लण्ड का सुपाड़ा चूत के मुहाने पर आते ही उसने ज़ोर से लण्ड उचकाया चूत रस में भीगे होने के कारण उसके लण्ड का सुपाड़ा फट से मेरी चूतड़ में घुस गया। अब उसने अपना लण्ड अंदर-बाहर करना शुरू किया. वो बहुत धीरे-धीरे धक्का मार रह था, और कुछ ही मिनूटों में जब निशाना सध गया तो धीरे-धीरे उसकी स्पीड बढ़ती ही जा रही थी, और अब वो मेरे गद्देदार चूतड़ो पर थपाथप करते हुए किसी पिस्टन की तरह पीछे से मेरी चूत में अपना लण्ड पेल रहा था. मुझे तो चूत मे लण्ड चाहिये चाहे जिधर से मिले और अब में फ़िर बड़बड़ाने लगी, है आज़ाज़ा आ रहा है,

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:31 AM
Post: #44
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
और ज़ोर से मारो, और मारो और बना दो मेरी चूत का भुर्ता, और दबओ मेरे चूतड़ , और ज़ोर दिखाओ अपने लण्ड का और फाड़ ओ मेरी चूत, अब दिखाओ अपने लण्ड की ताक़त. बस थोडा सा और, मैं बस झड़ने ही वाली हूँ और थोड़ा धक्का मारो शाबाश.................... अह्हाआआ लो मैं गयी, निकला...

और फ़िर मेरी चूत खूब झड़ी ।


उसी समय महेश भी बड़बड़ाया


हाय जानी अब गया, अब और नही रुक सकता, ले चूत रानी, ले मेरे लण्ड का पानी अपनी चूत में ले. कहते हुए उसके लण्ड ने मेरी चूत में अपने वीर्य की पिचकारी छोड़ दी । वो चूचियाँ दबाए मेरी कमर से इस तरह चिपक गया था मानो मीलों दौड़ कर आया हो. थोड़ी देर बाद उसका मुरझाया हुआ लण्ड मेरी चूत में से निकल गया और वो मेरी चूचियाँ दबाते हुए उठ खड़ा हुआ, और मुझे सीधा करके अपने सीने से सटा कर मेरे होंठों की पप्पी लेने लगा.

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:31 AM
Post: #45
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
उधर विश्वनाथजी ने महसूस किया कि मामीजी की चूत बुरी तरह से गीली है इसका मतलब वो बुरी तरह से चुदासी हैं सो उन्होंने मारे उत्तेजना के मामी जी की पावरोटी जैसी चूत के मोटे मोटे होठों को अपनी बायें हाथ की उंगली और अंगूठे की मदद से फ़ैलाकर उसके मुहाने पर अपने घोड़े जैसे लण्ड का हथौड़े जैसा सुपाड़ा रखा । अब तो मामीजी के दिमाग ने भी सोचने समझने इन्कार कर दिया उनके होठों से सिसकारी निकली-

इस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सी आह ।


विश्वनाथजी ने धक्का मारा और उनका सुपाड़ा पक से मामीजी की चूत में घुस गया।


मामीजी के होठों से निकला-


उईफ़ आह !


तभी बैठक का दरवाजा भड़ाक से खुला और रामू ने अन्दर आते हुए कहा-


माफ़ी मालिक लोग, बड़े मालिक जाग गये हैं और मैं अभी उन्हें सन्डास भेज के आया हूँ ।


हम सब ठगे से रह गये। रामू की आँखो के सामने रमेश के हाथ में मेरी, महेश के हाथ में भाभी की चूचियाँ, सबसे बढ़कर मामीजी की चूत में विश्वनाथजी के घोड़े जैसे लण्ड का हथौड़े जैसा सुपाड़ा । रामू ने नजरे झुका लीं और जल्दी से बाहर निकल गया अब हमें होश आया विश्वनाथजी ने जल्दी से अपने लण्ड का सुपाड़ा मामीजी की चूत से बाहर खीचा जो बोतल से कार्क के निकलने जैसी पक की आवाज के साथ बाहर आ गया। विश्वनाथजी अपनी धोती ठीक करते हुए बैठक की बाहर की तरफ़ भागे इस बीच मैं और भाभी भी जल्दी से अपने आपको छुड़ाकर अपने कपड़े और हुलिया दुरुस्त करते हुए बैठक की बाहर की तरफ़ भागे क्योंकि वैसे भी हमारे साथ ज्यादा कुछ होने नहीं पाया था सो हुलिया दुरुस्त करने में ज्यादा वख्त नहीं लगा। हमने बाहर देखा कि विश्वनाथजी रामू को फ़ुसफ़ुसाकर पर सख्ती से कुछ समझा रहे हैं उन्होंने रामूको एक सौ रुपये का नोट दिया और रामू खुशी खुशी ऊपर चन्दू मामाजी को नहाने धोने में मदद करने उनके कमरे की तरफ़ चला गया। विश्वनाथजी ने हमसे धीरे से कहा कि तुमलोग घबराना नहीं मैंने रामू का मुँह बन्द कर दिया है।

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:31 AM
Post: #46
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
मैं और भाभी आश्वस्त हो किचन में जा कर जल्दी जल्दी चाय नाश्ता बनाने लगे। मामीजी बैठक से जल्दी से निकलकर एकबार फ़िर बाथरूम में घुस गईं और नये सिरे से अपने आपको दुरुस्तकर और कपड़े बदल कर बाहर निकली। फ़िर किचन में आकर हमारा हाथ बटाने लगीं जब चन्दू मामाजी फ़ारिग हो नहाधोकर नीचे आये तबतक विश्वनाथजी रमेश महेश भी नहाधोकर चुस्त दुरुस्त बैठक में आ बैठे थे और रात की कहानी का कोई सबूत कहीं नहीं नजर आ रहा था । सबकुछ सामान्य था। ऐसा मालूम होता था मानो रात को कुछ हुआ ही नहीं था। विश्वनाथजी-

आइये भाई साहब खूब सोये हमलोग कब से आप के उठने की राह देख रहे थे लगता है क्या कल दारू कुछ ज्यादा हो गई।


चन्दू मामाजी-


अरे नहीं दारू वारू नही दरअसल ये मेलेठेले से मै बहुत थक जाता हूँ ।


रमेश (ने मक्ख़्न लगाया)-


वही मैं कहूँ देखने से ये तो नहीं लगता कि भाई साहब जैसे मजबूत आदमी का दारू वारू कुछ बिगाड़ सकती है ।


महेश ने मेरी तरफ़ देखते हुए जोड़ा-


ठीक कहा और जहाँ तक मेले का सवाल है हमलोग किसलिए हैं हम बच्चों को मेला दिखा लायेंगे ।


(मैं समझ गई कि साला किसी तरकीब से हमें फ़िर से चोदने की भूमिका बना रहा है।)


विश्वनाथजी-


हाँ भाई साहब कल रात की पार्टी के लिए मेरे परिवार की गैर मौजूदगी में आपके बच्चों ने जो मदद की उसके लिए उनकी जितनी भी तारीफ़ की जाय थोड़ी है ।


रमेश ने सबकी नजर बच्चा कर भाभी की तरफ़ आँख मारते हुए जोड़ा)-


हाँ भाई साहब आपका परिवार सब काम में बहुतही होशियार हैं। कभी हमारे यहाँ आइये हमे भी खातिर करने का मौका दीजिये। हमारी तो आपकी तरफ़ आवा जाही लगी ही रहती है अबकी बार आयेंगे तो जरूर मिलेंगे। दारू वारू का तो जुगाड़ होगा या नहीं?


चन्दू मामाजी-


अरे कैसी बातें करते हैं दारू वारू की कौन कमी है आप आइये तो सही ।


(मैं समझ गई कि ये साले हमारे घर आकर भी और फ़िर अपने घर बुला के भी हमें चोदने का सिलसिला कायम करने की तरकीब लड़ा रहे हैं अब ये आसानी से हमारी चूतों का पीछा नहीं छोड़ने वाले।)

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:31 AM
Post: #47
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
हमलोगों ने चाय नाश्ता लगा दिया. चाय नाश्ते के दौरान विश्वनाथजी भी बीच बीच में मामीजी को घूर कर देख रहे थे शायद सुबह अपने सुपाड़े से उनकी चूत का स्वाद चख लेने के बाद रात में चूक जाने की कोफ़्त से तड़प रहे थे। तभी हमारी मामीज़ी ने चन्दू मामाजी से कहा कि उनके पीहर के यहाँ से बुलावा आया है और वो दो दिन के लिए वहाँ जाना चाहती हैं. इस पर चन्दू मामाजी बोले-

भाई मैं तो इस मेले ठेले से काफ़ी थका हुआ हूँ और वहाँ जाने की मेरी कोई इच्छा नही है । विश्वनाथजी तो जैसे मौका ही तलाश कर रहे थे मामीज़ी के साथ जाने का, [या फिर मामी को चोदने का क्योंकि कल चोद नही पाए थे और आज सुबह उनकी शान्दार चूत मे सुपाड़ा डालने के बाद तो वो और भी उनकी चूत के लिए बेकरार हो रहे थे] तुरंत ही बोले-


कोई बात नही भाई साहब, मैं हूँ ना, मैं ले जाऊँगा भौजी को उनके मायके और दो दिन बिठा कर हम वहाँ से वापिस यहाँ पर आ जाएँगे ।विश्वनाथजी की यह बेताबी देख कर भाभी और मैं मुँह दबा कर हंस रहे थे. जानते थे कि विश्वनाथजी मौका पाते ही मामीज़ी की चुदाई ज़रूर करेंगे. और सच पूच्छो तो अब उनसे अपनी चूत मे सुपाड़ा डलवाने के बाद मामीजी भी ज़रूर उनसे चुदवाना चाह रही होंगी इसलिए एक बार भी ना-नुकूर किए बिना तुरंत ही मान गयी.






ये देख मैं भाभी से बोली


भाभी विश्वनाथजी मामीजी को न चोद पाने से परेशान हैं ऐसे देख रहे थे कि मानो अभी मामीजी को चोद देंगे। चलो उनका तो जुगाड़ हो गया अब मजे से दो दिन मामीजी की चूत खूब बजायेंगे। ये बाकी दोनों भी ऐसे देख रहे हैं कि मानो मौका लगे तो अभी फिर से हम सब को चोद देंगे ।


भाभी-


मुझे भी ऐसा ही लग रहा है बता अब क्या किया? जाए। .


मैं बोली-


किया क्या जाए, चुप रहो मौका दो, चुदवाओ और मज़ा लो'


भाभी-


तुझे तो हर वक़्त सिवाए चुदाई के और कुछ सूझता ही नही है ।


मैं बोली- अच्च्छा शरीफजादी, बन तो ऐसी रही ही जैसे कभी लण्ड देखा ही नहीं, चुदवाना तो दूर की बात है, चार दिनों से लोंडो का पीछा ही नही छोड़ रही और यहाँ अपनी शराफ़त की माँ चुदा रही है.'


भाभी-


अब बस भी कर मेरी माँ , मैंने ग़लती की जो तेरे सामने मुँह खोला. चुप कर नही तो कोई सुन लेगा. और इस तरह हमारी नोंक-झोंक ख़तम हुई.

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:32 AM
Post: #48
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
अब हमारी मामी और विश्वनाथजी के जाने के बाद हमारे लिए रास्ता एक दम साफ़ था. शाम के वक़्त हम तीनो याने मैं, मेरी भाभी और रामू मेला देखने घूमने निकले. तो वहाँ रमेश और महेश मिल गये जैसे हमारा इन्तजार ही कर रहे हों। बोले –“हमने तो आपके यहाँ खूब दावत खाई चलें आज हमारे यहाँ की कमसे कम चाय ही पी लें ।

मैंने भाभी की तरफ़ देखा और आँखों से ही पूछा कि चुदवाने का मन है क्या? भाभी ने भी आँखों ही आँखों में हामी भर दी बस हम उनके साथ चल दिये। रमेश ने रामू को एक चिट लिख कर दी और कहा-


“ इसे ले जाकर मेरे घर मेरी पत्नी को देना और चाय नाश्ता तैयार करने में उसकी मदद करना तबतक हम मेला देख के आते हैं ।


रामू चला गया तो रमेश बोला-


चलिये जबतक चाय बनती है आपको महेश का नया घर दिखा दें।


हम समझ गये कि ये रामू को भगाने का तरीका था। हमारी चुदाई महेश के घर में होगी क्योंके उसकी अभी शादी नही हुई है। महेश के घर पहुँचते पहुँचते उनकी और हमारी चुदास इतनी बढ़ गयी थी कि जैसे ही महेश ने घर का ताला खोलकर हमें अन्दर बुलाकर दरवाजा अन्दर से बन्द किया कि रमेश भाभीजी से और महेश मुझसे लिपट गया दरवाजे से बैठ्क तक आते आते हम दोनो ननद भाभी को पूरी तरह नंगा कर दिया था और खुद भी नंगे हो गये थे फ़िर दोनो ने बारी बारी से हमें एक एक राउण्ड चोदा फ़िर बोले-


चलो अब रमेश के यहाँ चाय पीते हैं।


दो राउण्ड चुदकर हमारी चूतें काफ़ी सन्तुष्ट थी ।अलग घर बनवा लेने के बावजूद रमेश और महेश दोनों भाई साथ ही रहते थे क्योंकि महेश की अभी शादी नही हुई थी रास्ते में मैने महेश से पूछा,


तू शादी क्यों नही कर लेता ? कब करेगा ?


महेश-


कोई मुझे पसन्द ही नहीं करती ।


मैं बोली-


क्यों तुझमें क्या कमी है?


महेश- तू करेगी ।


मैं बोली-


मैं तो कर लूँ पर मेरी जैसी चालू चुदक्कड़ से तू करेगा शादी?


महेश- हमारे परिवारों में तेरी जैसी चालू चुदक्कड़ ही निभा पायेंगीं ।


मैं बोली- क्या मतलब?


जवाब रमेश ने दिया –“मतलब तो मेरे घर पहुँचने के बाद मेरी बीबी से मिलकर ही समझ आयेगा।


रमेश के घर पहुँचकर हमने दरवाजा खटखटाया और रामू ने होंठ पोछ्ते हुए दरवाजा खोला । हम अन्दर गये नाइटी पहने रमेश की बीबी किचन से होंठ पोछ्ते हुए निकली और बोली-


आइये आइये।

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:32 AM
Post: #49
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
हम सबने देखा कि रमेश की बीबी गुदाज बदन कि मझोले कद की बड़े बड़े स्तनों और भारी चूतड़ों वाली गेहुए रग की औरत थी। मुझे लगा कि उसके बड़े बड़े स्तनों के स्थान की नाइटी मसली हुई है, जैसे अभी अभी कोई मसल के गया हो उसके बड़े बड़े स्तनों के निपल खड़े थे और उस स्थान की नाइटी गीली थी जैसे कोई नाइटी के ऊपर और अन्दर से अभी तक चूसता रहा हो। घर मे रामू के अलावा तो कोई मर्द या बच्चा था नहीं। तभी रामू को चाय लाने को को किचन में भेज वो हमारे पास बैठ गयी और बोली-

भाई आप लोगों कि बड़ी तारीफ़ कर रहे थे हमारे पति(रमेश) और देवर(महेश)। जिस दिन आप के यहाँ से दोनो आये खाने की मेज पर आपकी बातें करते करते इतने उत्तेजित हो गये कि खाने की मेज पर ही मुझे नंगा कर के चोदने लगे उस रात दोनो भाइयों ने मिलकर मेरी चूत का चार बार बाजा बजाया क्योंकि महेश की अभी शादी हुई नहीं है सो महेश से भी मुझे ही चुदवाना पड़ता है। वैसे आज आपको एक और काम की बात बताऊँ ये रामू भी गजब का चुदक्कड़ है मेरे पति(रमेश) ने जब इससे चाय के लिए कहलवाया तो चिट में लिखा था कि लौंडा तगड़ा लगता जबतक हम लोग आते हैं चाहो तो इस लौंडे को स्वाद बदलने के लिए आजमा के देखो। मैंने आपलोगों के आने से पहले आजमाने के लिए चुदवाया लौंडे मे बड़ी जान है। साले ने अभी रसोई में चूमाचाटी करके दुबारा मूड बना दिया था अगर आपलोग न आ गयी होती तो दूसरा राउन्ड भी हो गया होता। कभी आजमाइयेगा।


अब मुझे होठ पोछते हुए आने, स्तनों के आस पास मसली हुई और निपल के स्थान पर गीली नाइटी सारा माजरा समझ मे आगया। फ़िर हम सब चाय पी कर घर वापस आगये।


उस रात और अगली रात हम दोनों ने रामू से चुदवाया । साले का लण्ड तो ज्यादा बड़ा नहीं है पर चोदता जबरदस्त है और जितनी बार चाहो।

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
03-30-2013, 07:32 AM
Post: #50
RE: मुहल्लेदारी से रिश्तेदारी तक
तीसरे दिन विश्वनाथजी हमारी मामीजी को उनके मायके से वापस ले के आये। हमारी मामीजी बड़ी खुश थी। पूछने पर उन्होंने विश्वनाथजी की तारीफ़ करते हुए बताया कि विश्वनाथजी हमारी मामीजी को उनके मायके बड़ी सहूलियत से ट्रेन के फ़र्स्ट क्लास कूपे में ले गये थे और वैसे ही वापस भी ले के आये । चूकि हमारे बीच एक दूसरे का कोई भेद छुपा नहीं था सो कुरे दने पर मामी जी ने ये किस्सा बताया । हुआ योंकि हमारी मामी और विश्वनाथजी ट्रेन के फ़र्स्ट क्लास कूपे में चढे़ और टीटी के टिकेट चेक करके जाने के बाद विश्वनाथजी ने कूपे का दरवाजा अन्दर से बन्द कर लिया और मामी के बगल में बैठ गये।

भौजी! उस दिन की घटना के बाद दिल काबूमें नहीं है । कहकर विश्वनाथजी ने उनके गुदाज बदन को अपने कसरती बदन से लिपटा लिया। मामीजी भी तो बुरी तरह से चुदासी हो ही रहीं थी और चुदने ही आयीं थीं, सो वो भी लिपट गयी । विश्वनाथजी आगे से ब्लाउज में हाथ डाल कर उनकी चूचियों सहलाने लगे, जैसे ही उनके बड़े मर्दाने हाँथ में मामीजी की हलव्वी छाती आई, मामीजी साँसें तेज होने लगीं। विश्वनाथजी के कसरती बदन में दबा मामीजी का गुदाज बदन और उनके बड़े मर्दाने हाथ में मामीजी की हलव्वी छातियाँ, अब मामीजी और विश्वनाथजी दोनो की साँसे तेज चलने लगी थी, विश्वनाथजी के बदन की गर्मी से गरम होती मामीजी ने भी धीरे से विश्वनाथजी की धोती ने हाथ डाल उनका हलव्वी लण्ड थाम लिया और सहलाने लगीं । दोनो की नजरें मिलीं और मिलते ही विश्वनाथजी उखड़ी साँसों के साथ बोले-


भौजी, आज तो मैं उसदिन का बचा काम पूरा करके ही रहूँगा ।


विश्वनाथजी का लण्ड पकड़कर मरोड़ते हुए मामीजी फ़िर मुस्कुराकर माहौल को सहज करते हुए पूछा-


मतलब बचा हुआ ये विश्वनाथ लाला ?


मामीजी को मुस्कुराते देख विश्वनाथजी ने उनके बदन को और अपने जिस्म के साथ कसते और चूचियाँ सहलाते हुए कहा,-


हाँ।


फ़िर उन्हें बर्थ पर लिटा उनकी साड़ी पेटीकोट पलटकर उनकी पावरोटी सी चूत मुट्ठी में दबोच ली और आगे बोले-


आपकी इसमें?


और विश्वनाथजी ने अपने होठ मामीजी के होठों पर रख दिये।


विश्वनाथजी ने महसूस किया कि मामीजी की चूत बुरी तरह से गीली है इसका मतलब वो बुरी तरह से चुदासी हैं सो उन्होंने मारे उत्तेजना के मामी जी की पावरोटी जैसी चूत के मोटे मोटे होठों को अपनी बायें हाथ की उंगली और अंगूठे की मदद से फ़ैलाकर उसके मुहाने पर अपने घोड़े जैसे लण्ड का हथौड़े जैसा सुपाड़ा रखा । मामीजी के होठों से सिसकारी निकली-


इस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सी आह ।


विश्वनाथजी ने धक्का मारा और उनका सुपाड़ा पक से मामीजी की चूत में घुस गया।


मामीजी के होठों से निकला-


उईफ़ आह लाला ! डाल दो पूरा राजा ।


विश्वनाथजी ने ज़ोर का धक्का मारा. उसका आधे से ज़्यादा लण्ड मामीजी चूत में घुस गया. मामीजी जैसी पुरानी चुदक्कड़ भी सीस्या उठी जबकि एक ही दिन पहले दो दो हलव्वी लण्डों (रमेश और महेश) से जम के अपनी चूत चुदवा चुकी थी उनका हलव्वी लण्ड मामीजी के भोसड़े में भी बड़ा कसा-कसा जा रहा था. विश्वनाथजी ने एक और ठाप मारा तो पूरा लण्ड अन्दर चला गया. मामीजी के होठों से निकला-


उइस्स्स्स्स्स्स्स्स आह !


मामीजी ने अपनी दोनो सईगमर्मरी जाँघें विश्वनाथजी ने कन्धों पर रख लीं विश्वनाथजी उनकी मोटी मोटी केले के तने जैसी चिकनी गोरी गुलाबी जांघों पिण्डलियों को दोनों हाथों में दबोचने जोरजोर से सहलाने लगे । बीच बीच में मारे उत्तेजना के उनकी गोरी गोरी गुलाबी पिण्डलियों पर दॉत गड़ा देते थे । इससे उनकी चोदने की स्पीड धीमी हो जाति थी।

Visit this user's website Find all posts by this user
Quote this message in a reply
Post Thread Post Reply




Online porn video at mobile phone


kim sharma fuckedmere madarchood aj lele meri chut sex storybus me budhe se maje pornmariana rios nakedexbii deepika padukoneginnifer goodwin nudekate goselin nudesex story of security wale ne nangi kr ke checking lisakshi tanwar fakesdudh niklta chudai xxx sex video hd .i lnsenta berger sexkiira korpi nudenude kathryn morrismeri peeth pe powder laga do sexy storycamille coduri nudeadrianna costa nudenora arnezeder nakeddanna paola fakesjill wagner nudenude neha dhupiyapriya mani pussybridget regan toplessअम्मीजान का अंगूरदाना 3helen chamberlain penthousenokarani ko bb bana ke rakhajessie wallace upskirtsex gepapa movis hindibhabi ki chut raseli penti ke andar xxx hd comsex story suhagraat zordar jhtkayymillisa gilbert nudenude jane krakowskiravi ki maa sochti hai lund muth marnanude adaa khanloui batley toplessnathalie kelley titsmayrin villanueva nudemarjorie de sousa nudeIncest Sex pariwar me adla badlihelen skelton upskirtrani mukherjee nip slipkarina lombard nudesonali bendre sex storydidi ka khoon baha diyajean louisa kelly sexshweta tiwari nudjennie finch nudesarah rue nudenude geena davisWWE girls ki chudai wali filmeinsuicide girls glitzdaniela ruah porn fakesalona tal toplessnans fadar sex chup kar dekhna porn sexpussy visiblegeena davis nudesblanka vlasic nudesonal chauhan pussyhd.dhoti.utarker.american.xxxnagi chodvani vartahitler ko pyar ho gaya chudai kahanitamil incast storiesमाँ पुष्पा की सभी सेक्स कहानियोंgigi edgley sexstephanie beacham nudecamille coduri nudevalery bertinelli nudeana beatriz nudebhartiya nari exbiidudh niklta chudai xxx sex video hd .i lnsushmita sen nip slipmayrin villanueva nudeshamita shetty nudeuski chouda seena gatheela badan sex storyotep shamaya nakedbhiharo chut gori vidoschod aaaahhhh chod aaaahhhh chod chod aaaahhhh bur ko jabardasti patak k chod aaaahhhhस्कर्ट उपर से बहन की चुदाईannie pots nudebollywood nipl slipmonica keena toplessxxx ubhri hui gori teen chutmaa NE panty pahnayisex Ki Pyasi Dayan Sabko Sabko chudai chudai movie movie B A PSS 2mandira bedi upskirtnude shamitanude paget brewstersaniya mirza sexJethji sone doGoriyan chodae wala